Press "Enter" to skip to content

Posts published in “Current Affairs”

बाबा “लम्पट” और लम्पट “बाबा” कैसे बनते है?

Vikrant Pandya 1

“सन्यासी”, “साधु”, “संत”, “ऋषि” और “महर्षि” ये सारे शब्द हमे हमारी संस्कृति और सांस्कृतिक विरासत पर गर्व महसूस करवाता है। मिडिया ने इन शब्दों में से कुछ शब्दों को  “गाली” जैसा बना दिया है। बाबा राम रहीम से ले कर के आसाराम बापू तक सभी ने इन शब्दों की गरिमा को ठेस पहुचाई है। और रही सही कसर मिडिया ने…

…अब CJI का महाभियोग: “वोट-बेंक” को एक क्लियर मेसेज

Vikrant Pandya 0

कल जज लोया की मौत के मामले में करारी शिकस्त और कोर्ट से तीखी टिपण्णी खाने के बाद आज कोंग्रेस समेत ७ पार्टियो के ७१ सांसदों ने सुप्रीम कोर्ट के चीफ जस्टिस दीपक मिश्रा के खिलाफ महाभियोग प्रस्ताव पेश किया। कोंग्रेस और अन्य दलों के करीबन ७० से ज्यादा सांसदों ने इस प्रस्ताव पे अपने दस्तखत किये। अब समजना ज़रूरी…

इस सीन से पता चलेगा कि बाहुबली की कहानी कौन सी सदी की है।

Vikrant Pandya 0

इसमें कोई दोराय नही है कि बाहुबली और बाहुबली 2 हिंदी सिनेमा की सबसे कामियाब फ़िल्म है। बाहुबली ने हिंदी फिल्म में मायथोलॉजीकल फ़िल्म के नए अध्याय की शुरुआत की है। बाहुबली की बदौलत भारतीयों को पर्दे पर हिन्दू राजा के वैभव और शौर्य की एक अनोखी कहानी देखने को मिली। हालांकि बाहुबली फ़िल्म में कही पर भी फ़िल्म के…

Rohingya Crisis: Behind the Scenes

Vikrant Pandya 12

It was pleasure watching hundreds of Muslims protesting on the street of Delhi and other major cities across India which is in its own case a very rare scene. Large number of agitations have been made by various organization on different national, political or social issues but we can never see such a huge number of Muslims participating in any…

2017: Change in narrative of Indian Media

Vikrant Pandya 1

It’s a proven fact that uttering a single word against media is like inviting your social or political death. The Indian media is so powerful that it can make anybody a CM within a matter of time. Media is an important pillar of democracy and in a country like India which is the world’s largest democracy standing by/against media is…

क्या जन गण मन से इस्लाम खतरेमे?

Vikrant Pandya 0

बिहार के MLA खुर्शीद अहमद ने जय श्री राम क्या कहा एक विवाद ने जन्म ले लिया। बात तो यहाँ तक आ गयी की एक फतवे से सारे मुस्लिमो को उनसे किसी भी तरह का सम्बन्ध ना रखने के लिए सूचित किया गया। आख़िरकार जब विधायक जी ने जब मौलवी के सामने “तौबा किया” (मांफी माँगा) तब जा कर ये विषय समाप्त…

શું જન ગણ મન થી ઇસ્લામ ખતરા માં?

Vikrant Pandya 0

હમણાં બિહાર વિધાનસભા મા ધારાસભ્ય ખુર્શીદ અહેમદ એ જય શ્રી રામ કીધું અને વિવાદો નો વંટોળ ચાલુ થઈ ગયો. વાત તો ત્યાં સુધી આવી ગઈ કે એક ફતવા દ્વારા તમામ મુસ્લિમો ને એમની સાથે સંબંધ પૂરો કરી દેવાનું ફરમાન કરી દેવામાં આવ્યું અંતે એમણે મૌલવી ની સામે “તૌબા” કરી (માફી માંગી) અને વિષય પૂરો થયો. મહારાષ્ટ  માં AIMIM ના ધારાસભ્ય વારીસ પઠાણ…